Retirement Ke Baad Sukhi Jeevan Ram Singh

ISBN:

Published:

Hardcover

134 pages


Description

Retirement Ke Baad Sukhi Jeevan  by  Ram Singh

Retirement Ke Baad Sukhi Jeevan by Ram Singh
| Hardcover | PDF, EPUB, FB2, DjVu, audiobook, mp3, ZIP | 134 pages | ISBN: | 10.24 Mb

रिटायरमेंट के बाद सुखी जीवन-डॉ. रामसिंहजीवन कया है? उसका कया महततव है? हाँ, जीवन एक अनोखी सृषटि है, ईशवर का उपहार है, परकृति की कृपा है, धरती की शान है। बिना जीवन के संसार नहीं है। यह जीवन ही है, जो संसार बनाता है। जीवन एकांत को सजीवता परदान करता हैMoreरिटायरमेंट के बाद सुखी जीवन-डॉ. रामसिंहजीवन क्या है? उसका क्या महत्त्व है? हाँ, जीवन एक अनोखी सृष्टि है, ईश्वर का उपहार है, प्रकृति की कृपा है, धरती की शान है। बिना जीवन के संसार नहीं है। यह जीवन ही है, जो संसार बनाता है। जीवन एकांत को सजीवता प्रदान करता है। जीवन पुष्प है, जिसका प्रेम मधु है, जो मानवता की सारी बीमारियों, गलतियों, चिंताओं और दु:खों का उपचार है। जीवन मधुर है, सत्य है, सार्थक है।विश्राम अवकाश-प्राप्ति है और अवकाश-प्राप्ति विश्राम है- किंतु कर्तव्य मनुष्य के जीवन की अंतिम साँसों तक साथ नहीं छोड़ता। यह कर्तव्य अपने लिए नहीं, दूसरों के लिए करना पड़ता है।प्रस्तुत पुस्तक में अवकाश-प्राप्ति या रिटायरमेंट के बाद शेष जीवन को कैसे खुशहाल, नीरोग तथा जिंदादिल बनाए रखा जा सकता है-इस पर गहन विचार-मंथन कर अनेक उदाहरणों के माध्यम से सहज-सरल तरीकों को बताया गया है



Enter the sum





Related Archive Books



Related Books


Comments

Comments for "Retirement Ke Baad Sukhi Jeevan":


keyboardmilitia.com

©2013-2015 | DMCA | Contact us